सीमित आय में जीवन - यापन करना आपकी मजबूरी है या लापरवाही ?

Posted by admin 09/09/2019 0 Comment(s)

 


आज के दौर में सभी क्षेत्रों में प्रतिस्पर्धा  बहुत ज्यादा है चाहे वो नौकरी हो या व्यापार , प्रतिस्पर्धा होने के कारण दिन प्रतिदिन सभी लोगो की आय घटती जा रही है | चाहे वो शुरूआती दौर में हो या अपने क्षेत्र के शीर्ष पर | ओर ये समस्या आगे ओर बढ़ेगी लेकिन सभी के लिये नहीं , क्योंकि वर्तमान दौर बहुत ही जबरदस्त परिवर्तन की ओर  अग्रसर हो रहा है  जिसमें बड़े - बड़े सेक्टर खत्म होते जा रहे है | और बड़े - बड़े नये प्रकार के सेक्टर बनते जा रहे है  जिसमे  कोई भी इंसान भाग ले सकता है  और अपने क्षेत्र में अपनी इच्छानुसार  अपने समय के हिसाब से काम करके अतिरिक्त इनकम  बढा सकता है  | बशर्ते वो अपने माइंड को खुला रख के अपने चारो और हो रहे बद्लावो को ध्यान में रखकर आने वाले अवसरो को वक्त पर समझ ले और उनको अपने जीवन में अपनाकर  अपनी इनकम को जितना चाहे उतना अतिरिक्त  बढा ले | चाहे तो फिर  उसके लिये अपने परिवार के अन्य सदस्यो को भी शामिल करके वक्त के अनुसार  दुनिया से कंधे से कन्धा मिलाकर आगे बड़े ओर अपनी इनकम को बढाये | इस इंटरनेट के जमाने में अवसरो की कोई कमी नहीं है , जिनसे की इनकम बढ सकती | सीमित आय इंसान के लिये तब तक ही मजबूरी है जब तक कि वो अपने पुराने डर्रे को छोडने के लिये तैयार नहीं है | अगर वो अपनी लापरवाही को छोडकर नया काम करना शुरू करे तो धीरे -धीरे अपनी आय को आसानी से अपनी जरुरतो से कई गुना अधिक बढा सकता है | 
  

 

मजबूर नहीं तुम महान हो ,भारत माँ की शान हो | 
     पूर्ण होंगे सबके सपने ,पूरे करेंगे बदलाव अपने ||